असुरक्षित सेक्स करने से पहले आपको और आपके साथी को सावधानियां बरतनी चाहिए। अगर आप बिना प्लानिंग के असुरक्षित सेक्स करने की सोच रहे हैं तो ये आपकी बड़ी गलती साबित हो सकती है।

अगर आप अपने पार्टनर के साथ असुरक्षित सेक्स करने जा रही हैं, तो शायद आपको पता है कि आप कितना बड़ा कदम उठा रही हैं। ये कदम बड़ा इसलिए हैं क्योंकि आप कई एसटीडी संक्रमण को न्योता तो दे ही रही हैं, साथ ही आप इस असुरक्षित सेक्स से प्रेगनेंट भी हो सकती हैं। हालांकि, एसटीडी का खतरा तब ज्यादा होता है जब आप किसी अनजान व्यक्ति के साथ यौन संबध बना रही होती हैं।

हां, अगर आप अपनी जिंदगी में एक और जिंदगी को लाने का विचार कर रही हैं तो आपको इस तरह सेक्स कर लेना चाहिए। लेकिन आपको पूरी तरह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि आप उस चीज के लिए पूरी तरह तैयार है या नहीं। यह निर्णय लेना आपके लिए काफी ज्यादा मुश्किल भी हो सकता है। लेकिन आज हम आपको बताएंगे कि आखिर आपको यह फैसला किस तरह लेना चाहिए। आपको कब और कैसे तय करना चाहिए कि ये सहवास का बिलकुल ठीक समय है या नहीं।

भरोसा करें और विश्वास करें: आप वास्तव में अपने साथी पर कितना भरोसा करते हैं?

जब आप सहवास करने की सोच रही हैं तो निश्चित रूप से आप अपने पार्टनर पर भरोसा करती हैं। जब कोई भी महिला ये फैसला लेती है कि वह दुनिया में एक नई जिंदगी को लाना चाहती है, तो वह चाहती है कि सहवास उसके साथ हो जिससे वह प्यार करती है। वहीं, हमारे समाज में शादी के बाद ही लोग सहवास करते हैं।

लेकिन पश्चिम में ये जरूरी नहीं होता। महिलाएं सहवास करने की अनुमति उसी को देती हैं जिस पर वह भरोसा करती हैं। इसलिए आपको यह करने से पहले सुनिश्चित करना होगा कि आप अपने पार्टनर पर पूरी तरह भरोसा करती हैं।

अगर आप अपने पार्टनर पर भरोसा नहीं करती हैं और आपको लगता है कि आपका पार्टनर आपके साथ सिर्फ यौन संबंध बनाने पर ध्यान देता है, तो आपको अपने साथी को अपने अंदर सहने की अनुमति बिल्कुल नहीं देनी चाहिए। यह विश्वास का ही पूरा खेल है।

अगर आप अपने पार्टनर पर पूरी तरह विश्वास नहीं करती हैं तो आप अपना फैसला बदल सकती हैं। जब तक आपको अपने पार्टनर पर पूरी तरह विश्वास न हो, आप कभी भी कोई बड़ा कदम न उठाएं। क्योंकि इस फैसले के बाद सिर्फ आपकी ही नहीं बल्कि आपके पार्टनर की भी जिम्मेदारी होगी आपकी देखभाल करना।

यदि आप गर्भवती हो जाती हैं, तो क्या आप सामूहिक रूप से पितृत्व के लिए तैयार हैं?

आपको पता है कि सहवास करने के बाद आप पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी आ जाएगी। आपको खुद से ये सवाल पूछना होगा कि क्या आप पेरेंटिंग के लिए तैयार हैं? क्या आप एक मां बनने के लिए तैयार हो चुकी हैं। यह सवाल बड़ा है क्योंकि आप पर जिम्मेदारी भी बड़ी आने वाली है। लेकिन आपको यह भी ध्यान रखना है कि इस काम में आप सिर्फ अकेली नहीं हैं बल्कि आपका पार्टनर भी आपके साथ है। आपको सुनिश्चित करना चाहिए कि आप दोनों माता – पिता बनने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।

अगर आपको लगता है कि माता-पिता बनना बहुत आसान है, तो आपको बता दें कि यह बहुत ही जिम्मेदारी वाला काम है। जब तक आप पूरी तरह तैयार नहीं हो जाते, तब तक आप कोई बड़ा फैसला लेने से बचें। आपको ये तय करना है कि क्या आप अपने बच्चे की परवरिश करने के लिए पूरी तरह तैयार हो चुके हैं या नहीं।

अगर आपने सेक्स के दौरान तय किया है कि आप अपने पार्टनर को अपने अंदर स्खलन करने देना चाहती हैं तो प्रश्न बन जाते हैं,

1) क्या आप सामूहिक रूप से पितृत्व के लिए तैयार हैं;
2) क्या यह वह व्यक्ति है जिसके साथ आप बच्चे का पालन-पोषण करना पसंद करेंगी?

बर्थ कंट्रोल बातचीत पर आप दोनों कहां खड़े हैं?

यदि यह वह व्यक्ति नहीं है जिसके साथ आप भविष्य देखती हैं या आप स्वयं मां बनने की कोई इच्छा नहीं रखती हैं, तो यह समय स्पष्ट हो जाने का है कि आप और आपका शरीर जन्म नियंत्रण पर कहां खड़े हैं। आम धारणा के विपरीत, गर्भपात जन्म नियंत्रण है, और आप ऐसा मानते हैं या नहीं, इस पद्धति पर आप दोनों को अपनी स्थिति के बारे में एक ईमानदार बातचीत करनी चाहिए।

महिला का 45 वर्ष की आयु तक गर्भपात हो सकता है, इसलिए आप जो भी करें, कृपया शर्मिंदा न हों। लेकिन आपको पता होना चाहिए कि क्या यह एक ऐसा व्यक्ति है जो इस प्रक्रिया के माध्यम से आपका शारीरिक, मानसिक और आर्थिक रूप से समर्थन करेगा या यह उम्मीद की जाएगी कि आप इसे अकेले ही करेंगे।