छोटी सी जिंदगी में इंसान बड़ी-बड़ी मुश्किलों में उलझ जाता है। कई लोग शादी के बाद अफेयर कर लेते हैं, उसके बाद भी खुश नहीं कर पाते। फिर उन्हें समझ नहीं आता अब क्या करें। ऐसी ही उलझन में फंसे हमारे यूजर ने भी एक सवाल पूछा है जिसका जवाब रिलेशनशिप कोच ने दिया।

सवाल: ‘मैंने फैमली प्रॉब्लम की वजह से 16 साल की उम्र में शादी कर ली थी। बहुत सारे झूठ के साथ मुझसे 12 साल बड़े इंसान से मेरी शादी की गई। जिंदगी में कुछ कमियों के कारण मैंने किसी से अफेयर चलाया, वो रिश्ता 8 साल तक अच्छा चला। लेकिन उस फिर उस इंसान ने मेरी दोस्त के साथ भी अफेयर करके मुझे धोखा दिया।

3 साल बाद मुझे फिर कोई मिला अब मैं उस के साथ हूं, लेकिन वो भी मुझसे दूर होता नजर आ रहा है। मुझे लाइफ में बहुत कमी सी लगती है, मैं क्या करूं कुछ समझ नहीं आता। पति को छोड़ना भी ठीक नहीं लगता, लेकिन मुझे सच्चा इंसान नहीं मिल पा रहा जो मेरा साथ दे सके।

खुद को समय दें

यूजर के इस सवाल का जवाब जानने के लिए हमने प्रिडिक्शन्स फॉर सक्सेस के संस्थापक और रिलेशनशिप कोच विशाल भारद्वाज से बात की।

उन्होंने बताया कि सबसे पहले खुद को समय देना शुरू करें। इससे आपको सही फैसला लेने में आसानी होगी। भविष्य के लिए क्या सही है और क्या गलत ये समझने के लिए विचार करना होगा। आप किस तरह की जिंदगी जीना चाहते हैं और आपके लिए क्या जरूरी है ये भी आपको समझना होगा।

खुलकर बात करें

अपने पति के साथ ही जिस व्यक्ति के साथ रिलेशन में हैं आपको उनसे खुलकर बात करना चाहिए। फीलिंग शेयर करने के साथ उनकी भावनाओं के बारे में भी पूछें। इससे आपको पता चलेगा कि रिश्ते में क्या कमी है। और, कौन रिलेशनशिप को मजबूत बनाने के लिए एफर्ड लगा रहा है।

अपनी खुशी देखें

आपको अपने रिश्ते को गहरायी से समझना होगा। किस रिश्ते में आपको पॉजिटिव फीलिंग आती है और आप किसके साथ सच में खुश रहते हो। ऐसे में जिस रिलेशनशिप में आपको खुशी नहीं मिलती उन्हें अपनी ट्रू फीलिंग बताएं। ताकी बाद में उनकी भावनाओं को ठेस न पहुंचे। और, सिचुएशन के साथ ही रिश्ते को समझने का मौका मिले।

सेल्फ रिस्पेक्ट- सेल्प लव जरूरी

किसी भी रिश्ते में अपने आत्म-सम्मान को कम न होने दें। साथ ही जिंदगी में सेल्फ लव भी जरूरी होना चाहिए। अगर आप खुद से प्यार करेंगे तभी कोई और भी आपसे प्यार कर पाएगा। इसलिए अपनी हॉबी जो पहचानें, उनको समय दें, अपनी देखभाल करें। दूसरों से कम उम्मीद रखें और खुद के लिए कदम उठाएं। इसके अलावा अपने भविष्य के लिए लक्ष्य बनाएं और उन पर काम करें। दूसरे से जो चाहते हैं, वो खुद के लिए खुद से करें। अपनी खुशी छिनने का हक किसी को भी न दें।

पॉजिटिव रहें

पॉजिटिव सोच के साथ किसी भी मुश्किल से निकालना आसान होता है। क्योंकि समय के साथ परिस्थितियां बदलती हैं, इसलिए अपने आप को इस सिचुएशन से लड़ने के लिए काबिल बनाएं। शादी समाज के दबाव में हुई हो फिर परिवार के कहने पर, लेकिन आपको इस रिश्ते को समझना होगा। समझ और प्यार की कमी से है तो इस पर ध्यान देना होगा।