कई बार व्यक्ति रिलेशनशिप में तो होता है लेकिन बेमन से रिश्ता निभा रहा होता है. इस तरह के रिलेशनशिप्स आज नहीं तो कल टूट ही जाते हैं. इसलिए रिश्ता खींचने के बजाए इन संकेतों को वक्त रहते पहचानना जरूरी होता है.

जब दो लोग प्यार में होते हैं तो रिलेशनशिप में आ जाते हैं. रिलेशनशिप का मकसद होता है एकदूसरे के साथ रहना, एकदसूरे के लिए हमेशा मौजूद रहना और सबसे जरूरी है साथ में खुश रहना. लेकिन, जब पार्टनर अपने ही पार्टनर से दुखी रहने लगे या उसके साथ खुश (Happiness) महसूस ना करे तो रिलेशनशिप का कोई मतलब ही नजर नहीं आता है.

एक पार्टनर की यही उदासी दोनों के लिए मुश्किल का सबब बन जाती है और ऐसा लगने लगता है जैसे रिलेशनशिप नाम का बचा है और उसे बस खींचा जा रहा है. अगर आपको भी लगता है कि आपका रिलेशनशिप ब्रेकअप की तरफ बढ़ रहा है या उसमें पहले जैसा स्पार्क नहीं रहा है तो हो सकता है ऐसा आपके पार्टनर के आपके साथ खुशी ना महसूस करने के चलते हो रहा हो. यहां जानिए उन संकेतों के बारे में जिनसे पहचाना जा सकता है कि आपका पार्टनर आपके साथ खुश नहीं है.

पार्टनर के खुश ना होने के संकेत

बातों में बहुत ज्यादा कमी

अगर आपके और आपके पार्टनर के बीच बिल्कुल बातचीत नहीं होती है, पार्टनर आपसे दूरी बनाता है, बात करने से कतराता है, डिस्कशन नहीं करता या लंबी बातचीत से भागता है तो हो सकता है वह इस रिश्ते में आपके साथ खुश नहीं है और दूर होना चाहता है.

आप में बिल्कुल इंटरेस्ट ना लेना

आपके पार्टनर को अगर आपकी बातों में कोई इंटरेस्ट नहीं है या फिर आपकी लाइफ में वह इंटरेस्ट नहीं लेता है या अचानक से इंटरेस्ट लेना छोड़ चुका है तो यह भी नाराजगी का संकेत हो सकता है.

बात-बात पर झगड़ा करना

हर बात बर झगड़ा करने का मतलब है कि पार्टनर (Partner) को कोई ना कोई बात लगातार परेशान कर रही है या चिड़चिड़ा बना रही है. ऐसे में हर किसी बात पर पार्टनर झगड़ने लगता है तो हो सकता है वह आपके साथ खुश ना हो.

इमोशनली अवेलेबल ना रहना

पार्टनर्स एकदूसरे से अपने मन की गहरी से गहरी बात कहते हैं और चाहते हैं कि उन्हें कोई समझे या ना समझे लेकिन उनका पार्टनर जरूर समझे. लेकिन, जब पार्टनर इमोशनली अवेलेबल ना हो और आपको सुनना ही ना चाहे तो यह उसकी नाखुशी भी हो सकती है. लगाव का कम होना, सपोर्ट का कम होना, सराहना का कम होना और भावनात्मक करीबी ना होना नाखुशी का संकेत होता है.

एकसाथ समय ना बिताना

पार्टनर्स एकसाथ समय बिताते हैं तो एकदूसरे को और बेहतर समझने की कोशिश करते हैं, एकदूसरे का साथ पाकर खुशी महसूस करते हैं, सुकून महसूस करते हैं. मगर जब एक पार्टनर साथ में समय बिताने से दूर भागने लगे तो हो सकता है वह आपके साथ खुश नहीं है. समय होते हुए भी साथ समय ना बिताने का मतलब है कि पार्टनर को अब आपके साथ अच्छा नहीं लगता है.