पति- पत्नी या गर्लफ्रेंड- बॉयफ्रेंड में तनाव होना सामान्य बात है. लेकिन झगड़ा जब हद से आगे गुजरने लगे और रिश्ता टूटने की कगार तक पहुंच जाए तो आपको अलर्ट होने की जरूरत है. किसी भी रिश्ते को तोड़ने से पहले उसे संभलने का मौका दिया जाना चाहिए. जानिए टूटते हुए रिश्ते को बचाने के कुछ बेहद कारगर टिप्स.

नई दिल्ली :

बॉलीवुड हो या आम जिंदगी, आज-कल रिश्तों के टूटने की खबरें आम हो गई हैं. पति-पत्नी या गर्लफ्रेंड-बॉयफ्रेंड का रिश्ता टूटने पर उन दोनों के साथ ही उनसे जुड़े लोग भी दुखी और परेशान हो जाते हैं. अगर आपको भी लग रहा है कि आपका पार्टनर आपसे दूर हो रहा है, आपको समय नहीं दे रहा है या नजरअंदाज करने की कोशिश कर रहा है तो अब आपको रिश्ते की कमांड अपने हाथ में लेने की जरूरत है.

मजबूत से मजबूत और वर्षों पुराना रिश्ता भी जब टूटने लग जाता है तो एक-दूसरे की अच्छाइयां भी बुराइयां लगने लग जाती हैं. किसी भी रिश्ते को निभाने के लिए दिमाग से ज्यादा उसमें दिल लगाने की जरूरत होती है. इसके लिए रिश्ते में मौजूद दोनों ही लोगों को अपनी भूमिकाएं बहुत ईमानदारी से निभानी पड़ती हैं. रिश्ते में बेईमानी घुलते ही वह बर्बाद होने लग जाता है. जानिए बिखरते हुए रिश्ते को फिर से कैसे संवारें.

1- गलतफहमियों को कहें गुड बाय-

साथ में लंबा वक्त गुजारते हुए आपस में गलतफहमियां हो जाना आम बात है. लेकिन अगर इन्हें वक्त पर खत्म न किया जाए तो ये रिश्ता तोड़ने की सबसे बड़ी वजह साबित होती हैं. अगर आप दोनों के बीच कोई गलतफहमी हो गई है तो इस बारे में पार्टनर से खुलकर बात करें. इससे झगड़े की वजह पता चल जाएगी और उसे सुधारने में मदद भी मिल जाएगी.

2- पार्टनर को भी चाहिए पर्सनल स्पेस-

कोई आपके कितने भी करीब क्यों न हो, उसे पर्सनल स्पेस की जरूरत होती है. हर किसी की अपनी पसंद-नापसंद, दोस्त-यार, रिश्तेदार होते हैं. अगर आपस में लड़ाई या बहसबाजी ज्यादा हो रही है तो कुछ वक्त के लिए एक-दूसरे को स्पेस दें. इससे पार्टनर आपको मिस करेंगे और खुद भी रिश्ते को जोड़ने की कोशिश में जुट जाएंगे.

3- खुद की गलती मानना भी है जरूरी-

कभी भी झगड़ा होने पर सिर्फ पार्टनर पर ही दोष न डाल दें. शांत हो जाने के बाद अपनी गलतियों को समझें. पार्टनर के सामने अपनी गलती को स्वीकारें भी. इस बात का ध्यान रखें कि पार्टनर के सामने गलती मानने से आप छोटे नहीं हो जाएंगे, बल्कि इससे रिश्ते को मजबूती प्रदान करने में मदद मिलेगी.

4- एक-दूसरे का दें साथ-

जब आप किसी रिश्ते में आते हैं तो एक-दूसरे का साथ देने का वादा करते हैं. अगर आपको ब्रेकअप या तलाक होने से रोकना है तो एक-दूसरे का साथ दें, एक-दूसरे को अहमियत दें. पार्टनर को समय-समय पर इस बात का अहसास दिलाएं कि वह आपके लिए खास है. इसके लिए अगर आपको खुद में भी कुछ बदलाव करना पड़े तो हिचकिचाएं नहीं.