नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI)में पब्लिश एक स्टडी के मुताबिक अपने रोमांटिक पार्टनर या प्रेमी की तस्वीर देखने से शरीर का दर्द थोड़ा बहुत कम किया जा सकता है. 

नई दिल्ली: आमतौर पर सिरदर्द, बदन दर्द, पेट दर्द और पैर दर्द जैसी कई शारीरिक समस्याओं के लिए हम पेन किलर का सेवन करते हैं. इससे हमें दर्द से काफी राहत मिल जाती है, लेकिन अगर हम आपसे कहेंगे कि मात्र अपने पार्टनर की एक फोटो देखने से ही आपका दर्द कम हो सकता है तो शायद आपको ये बाद बिल्कुल भी हजम न हो, हालांकि ये बात बिल्कुल सच है और इसे एक स्टडी ने साबित भी किया है.   

नई दिल्ली: आमतौर पर सिरदर्द, बदन दर्द, पेट दर्द और पैर दर्द जैसी कई शारीरिक समस्याओं के लिए हम पेन किलर का सेवन करते हैं. इससे हमें दर्द से काफी राहत मिल जाती है, लेकिन अगर हम आपसे कहेंगे कि मात्र अपने पार्टनर की एक फोटो देखने से ही आपका दर्द कम हो सकता है तो शायद आपको ये बाद बिल्कुल भी हजम न हो, हालांकि ये बात बिल्कुल सच है और इसे एक स्टडी ने साबित भी किया है.    

फोटो से कम हो सकता है दर्द  

 
नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI)में पब्लिश एक स्टडी के मुताबिक अपने रोमांटिक पार्टनर या प्रेमी की तस्वीर देखने से शरीर का दर्द थोड़ा बहुत कम किया जा सकता है. स्टडी के मुताबिक रिलेशनशिप की शुरुआत में लोगों के मन में अपने पार्टनर को लेकर कई सारे इमोशंस होते हैं. इसे न्यूरोइमेजिंग रिसर्च में ह्यूमन ब्रेन में रिवॉर्ड सिस्टम के सक्रियता से जोड़ा गया. स्टडी में पाया गया कि ये इमोशंस मनुष्यों में दर्द को मैनेज करने में काफी मदद कर सकता है.  

दर्द को लेकर किया गया शोध  

 
वैज्ञानिकों के मुताबिक पार्टनर की तस्वीर देखने से होने वाले न्यूरोलॉजिकल एक्टिवेशन की वजह से ऐसा हो सकता है. इसे लेकर कई शोध में सकारात्मक परिणाम भी देखे गए हैं. बता दें कि फंक्शनल मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (FMRI) की इस स्टडी में 15 ऐसे लोगों को शामिल किया गया, जो अपने रिलेशनशिप के शुरुआती 9 महीने में थे.   

स्टडी में सामने आए ये नतीजे 

 
इस रिसर्च के लिए प्रतिभागियों को 3 टास्क पूरे करने थे. सबसे पहले उन्हें तेज और मीडियम दर्द में अपने पार्टनर की फोटो देखनी थी. दूसरे टास्क में उन्होंने एक परिचित और आकर्षक व्यक्ति की फोटो देखी और तीसरे में उन्होंने डिस्ट्रेक्शन के लिए शब्दों से जुड़ा कोई टास्क पूरा किया. टास्क पूरा करने के बाद रिसर्च में शामिल सभी लोगों ने एक सेल्फ रिपोर्ट पेश की. रिजल्ट में सामने आया कि अपने पार्टनर की फोटो देखने पर ही इन लोगों का न्यूरल रिवार्ड सिस्टम एक्टिव हुआ, जिससे इन्हें दर्द से राहत मिली.