कई बार पार्टनर जरूरत से ज्यादा पजेसिव हो जाता है, ऐसे में रिश्ते में गलतफहमियां भी बढ़ जाती हैं। तो आइए लेख में जानें पजेसिव पार्टनर से कैसे डील करें।    

कोई भी रिश्ता तभी मजबूत बनता है, जब उसे निभाने की कोशिशें दोनों तरफ से हो। लेकिन अगर रिश्ते को केवल एक ही व्यक्ति संभाल रहा है, तो रिश्ते के कमजोर होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। ऐसे ही कई बार लोग रिश्ते में चल रही चीजों को समझ नहीं पाते जैसे कि पार्टनर का पजेसिव होना या इंसेक्योर फील करना। कई बार लोग इसे प्यार समझकर नजरअंदाज कर देते हैं, तो कुछ लोग टॉक्सिक समझकर रिश्ता खत्म करना ही सही मानते हैं। लेकिन कई बार पार्टनर के ओवर पजेसिव नेचर को हम गलत मान लेते हैं। ऐसे में हमें समझ नहीं आता कि इससे कैसे डील करना है। ये कई बार रिश्ता खत्म करने का कारण भी बन सकता है। तो आइए आज इसी विषय पर बात करते हुए जानें ओवर पजेसिव पार्टनर से कैसे डील करना है।  

पहले समझें रिलेशनशिप में कितना पजेसिव होना सही है? 

पजेसिव होने का मतलब है पार्टनर का इंसेक्योर महसूस करना या कुछ चीजों पर कंट्रोल करने की कोशिश करना। अगर इससे आपकी पर्सनल लाइफ में परेशानी नहीं होती, तो यह गलत नहीं है। लेकिन अगर पार्टनर आपको बहुत ज्यादा कंट्रोल करने की कोशिश करता है या आप पर हर बार शक करता है, तो ऐसे में आपको ध्यान देने की जरूरत हो सकती है।   

पार्टनर की परेशानी को समझें 

कई बार लोग अपने पार्टनर को समझें बिना उसे गलत समझ लेते हैं। लेकिन अगर आपका पार्टनर पजेसिव है, तो आपको उसका कारण समझने की कोशिश करनी होगी। ऐसे में हो सकता है कि उसका रिश्ते में पहले कोई खराब अनुभव हो या किसी कारण आपके बीच दूरियां आई हो। इस समस्या से निपटने के लिए पार्टनर से खुलकर बात करना और उन्हें समझना बहुत जरूरी है। 

उन्हें अपनी फीलिंग बताएं 

कई बार हम अपनी बातें पार्टनर को समझा नहीं पाते, जिस कारण रिश्ते में गलतफहमियां बढ़ सकती हैं। ऐसे में पार्टनर से खुलकर बात करना जरूरी है। आपको पार्टनर को समझाना चाहिए कि आपको उनके इस व्यवहार के कारण अनकंफर्ट महसूस होता है। 

रिश्ते में कमिटमेंट बनाए रखें 

कुछ कपल्स अपने रिश्ते में कमिटमेंट बनाकर नहीं रखते। इसके कारण रिश्ता कमजोर हो सकता है, साथ ही पार्टनर का एक-दूसरे पर भरोसा भी कम हो सकता है। इसलिए जरूरी है अपने रिश्ते की बाउंड्री पहले से सेट करके रखी जाए। 

रिश्ते को हील होने का समय दें 

रिश्ते में चल रही गलतफहमियों के कारण भी कई बार लोग ज्यादा पजेसिव हो जाते हैं। ऐसे में उनके मन में हमेशा रिश्ता खत्म होने का डर बना रहता है। ऐसे में जरूरी है कि रिश्ते को हील होने का समय दिया जाए। एक-दूसरे पर भरोसा बनाकर रखा जाए और मिलकर रिश्ते पर काम किया जाए। 

एक्सपर्ट से संपर्क करें 

अगर आपको लगता है कि आप दोनों के लिए फीलिंग मैनेज करना मुश्किल हो रहा है, तो आपको रिलेशनशिप एक्सपर्ट से कपल काउंसलिंग लेनी चाहिए। इसके अलावा आप किसी करीबी व्यक्ति से भी अपनी परेशानी शेयर कर सकते हैं।  

इन टिप्स से आपको अपने पार्टनर के पजेसिव नेचर से डील करने में मदद मिल पाएगी। लेख में दी गई जानकारी पसंद आई हो, तो इसे शेयर करना न भूलें।