रिलेशनशिप में कई बार लोगों के लिए अपना भावनाओं को शेयर करना काफी मुश्किल होता है. जिस वजह से रिश्तों में दूरी आने लगती हैं. लेकिन अपने और पार्टनर के बीच में एक सुरक्षित बंधन विकसित करने आपको अपनी भावनाओं को खुलकर सामने करने में मदद मिलती हैं. 

एक रिलेशनशिप को मजबूत बनाने के लिए सिर्फ प्यार ही काफी नहीं होता, इसके अलावा भी कई चीजें जरूरी मानी जाती हैं. आपका रिलेशनशिप इमोशनली कितना स्ट्रॉन्ग है यह जानना काफी जरूरी होता है. रिलेशनशिप में जरूरी है कि आप अपने इमोशन्स जैसे गुस्सा, दर्द, उम्मीद, प्यार को जता सके और आपका पार्टनर आपकी बात सुनने के साथ ही आपको समझने वाला हो. इन्हीं चीजों से एक रिलेशनशिप स्ट्रॉन्ग बनता है. हमेशा कंफ्यूज रहना और अपने इमोशंस को एक्सप्रेस ना करना आपके रिलेशनशिप को बर्बाद कर सकता है. इस तरह के रिश्तों की उम्र काफी कम होती है और यह आसानी से टूट जाते हैं. 

हम आपको कुछ ऐसे संकेतों के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे आप पता लगा सकते हैं कि आपका रिलेशनशिप इमोशनली कितना सेफ है. आइए जानते हैं 

सेंसिटिव होनाइमोशनली सेफ रिलेशनशिप का एक संकेत ये है कि आप और आपका पार्टनर किसी भी मुद्दे पर एक दूसरे से बात शेयर करते हैं. आप दोनों एक दूसरे को सुरक्षित महसूस कराते हैं और बिना किसी डर के अपनी बात एक-दूसरे के सामने रख देते हैं. 

इमोशन्स को दिखानाकिसी रिश्ते में भावनाओं को व्यक्त करना कठिन हो सकता है लेकिन इसे छिपाना खतरनाक हो सकता है. जब आप अपनी भावनाओं को पार्टनर के साथ शेयर करते हैं तो उसे आपको जानने का मौका मिलता है और आपका रिलेशनशिप भी ग्रो होता है. 

स्पष्टता रखनारिलेशनशिप में दोनों ही पार्टनर्स के बीच में स्पष्टता होना काफी जरूरी होता है. इसके अलावा जरूरी है कि आप दोनों ही अपने भविष्य को लेकर भी स्पष्ट रहें. इससे कोई कंफ्यूजन नहीं रहती और आपका रिलेशनशिप आगे बढ़ता है. 

बाउंड्रीज सेट करनारिलेशनशिप में खुद का स्पेस होना भी काफी जरूरी होता है. जो लोग रिलेशनशिप मे एक-दूसरे को स्पेस देते हैं उनका रिलेशनशिप काफी हेल्दी होता है. जरूरी है कि आप एक -दूसरे को थोड़ा फ्री टाइम भी दें.  

उम्मीद रखनारिलेशनशिप में स्थिरता का होना काफी जरूरी होता है. जब आपका और आपके पार्टनर का बर्ताव स्थिर होता है तो इससे आप लोग एक दूसरे से उम्मीदें लगाते हैं. लेकिन जो रिलेशनशिप स्थिर नहीं होता उसमें पार्टनर्स को एक-दूसरे सो कोई भी उम्मीद नहीं होती है.